Clickadu
अपना देशफ्रेश न्यूज

दिल्ली में हटा नाइट कर्फ्यू, एक अप्रैल से पूरी क्षमता के साथ खुलेंगे स्कूल

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले अब काफी कम हो गए हैं. मामलों में गिरावट के साथ ही सकारात्मक दर में भी गिरावट आई है. इसके मद्देनज़र दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने शहर में लगी कोरोना पाबंदियों को वापस ले लिया है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल  ने इसकी जानकारी देते हुए कहा है कि एक अप्रैल से स्कूल पूरी तरह से ऑफलाइन काम करेंगे.

नई दिल्ली,अमन यात्रा : राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले अब काफी कम हो गए हैं. मामलों में गिरावट के साथ ही सकारात्मक दर में भी गिरावट आई है. इसके मद्देनज़र दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने शहर में लगी कोरोना पाबंदियों को वापस ले लिया है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल  ने इसकी जानकारी देते हुए कहा है कि एक अप्रैल से स्कूल पूरी तरह से ऑफलाइन काम करेंगे. साथ ही मास्क नहीं पहनने पर अब दो हजार की जगह सिर्फ 500 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा.

 

दिल्ली में सभी प्रतिबंध हटने का मतलब है कि सोमवार से नाईट कर्फ्यू सहित सभी कोरोना पाबन्दियां हट जाएंगी. बसों और मेट्रो में खड़े होकर सफर करने की अनुमति मिलेगी. साथ ही दुकानों और रेस्टोरेंट खोलने की समय सीमा भी ख़त्म हो जाएगी. अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, ”डीडीएमए ने सभी पाबंदियों को वापस ले लिया है, क्योंकि लोगों को नौकरियों के नुकसान के कारण कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है.” केजरीवाल ने बताया कि अब मास्क नहीं पहनने पर 500 रुपये का जुर्माना लगेगा.

दिल्ली में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 556 नए मामले सामने आए हैं और छह लोगों की संक्रमण से मौत हो गयी है. राजधानी में संक्रमण दर 1.10 फीसदी है.  स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन में कहा गया है कि एक दिन पहले की गई जांच की संख्या 50,591 थी, जबकि एक दिन में 618 मरीजों को छुट्टी दे दी गयी. इसमें कहा गया है कि संक्रमितों और मरने वालों की नयी संख्या सामने आने के बाद यहां संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 18,58,154 हो गयी है, जबकि मरने वालों की संख्या 26,115 पर पहुंच गयी है.

राजधानी में बुधवार को संक्रमण दर 1.05 प्रतिशत थी जबकि तीन लोगों की मौत हुयी और कोविड के 583 नये मामले सामने आये थे. दिल्ली के अस्पतालों में 15,294 बिस्तर कोविड मरीजों के लिये है जिसमें से 226 पर मरीज हैं.

AMAN YATRA
Author: AMAN YATRA

SABSE PAHLE

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button