Clickadu
कानपुर देहात

परंपरा और परिवर्तन का मिश्रण रहे बापू, स्वच्छता को लेकर थे बेहद संजीदा : बीईओ

सौरभ मिश्रा संवाददाता

कानपुर देहात। 2 अक्टूबर का दिन बेहद खास है क्योंकि इस दिन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्मदिन के साथ ही देश के पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती भी मनाई जाती है। प्रत्येक वर्ष इस दिन देश भर में कई तरह के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता रहा है हालांकि हर साल की तरह इस बार कोरोना वायरस महामारी की वजह से भव्य कार्यक्रमों का आयोजन नहीं किया गया। देश इस बार लाल बहादुर शास्त्री व महात्मा गांधी जी की 151वीं जयंती मना रहा है। कार्यालयों/विद्यालयों में ध्वज फहराने की परम्परा है। विदित हो विद्यार्थियों के लिए स्कूल-कॉलेज बंद हैं। ऐसे में काफी स्कूलों और कॉलेजों में ऑनलाइन मोड से भाषण व निबंध लेखन प्रतियोगिताएं कराईं गईं। सरवनखेड़ा बीईओ अनूप कुमार सिंह ने महात्मा गांधी की तस्वीर पर माल्यार्पण किया व वहां उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुये कहा कि गांधी जी में आजादी को लेकर जितना जोश और जूनुन था उतना ही वह स्वच्छता को लेकर संजीदा थे। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का मानना था कि साफ-सफाई, ईश्वर भक्ति के बराबर है और इसलिए उन्होंने लोगों को स्वच्छता बनाये रखने संबंधी एक उत्कृष्ट संदेश दिया था। उनका कहना था कि उन्होंने ‘स्वच्छ भारत’ का  सपना देखा है जिसके लिए वे चाहते हैं कि भारत के सभी नागरिक एकसाथ मिलकर देश को स्वच्छ बनाने के लिए कार्य करें। यही कारण है कि गांधी जयंती पर सरकारी कार्यालयों तथा विद्यालयों में बापू के चित्र पर माल्यार्पण करने के साथ ही स्वच्छता दिवस भी मनाया जाता है। इस अवसर पर जगह-जगह साफ सफाई अभियान भी चलाया गया। बीआरसी परिसर में बीईओ अनूप कुमार सिंह, लिपिक रामकृपाल सिंह, सहायक लेखाकार मनोज कुमार, राजेश बाबू कटियार, मनीष अवस्थी, विवेक शुक्ला, क्षितिज, संगम, अंजली, सुमन, धर्मेंद्र सिंह, विपिन त्रिवेदी आदि उपस्थित रहे। प्राथमिक विद्यालय निनायां प्रथम में प्रधानाध्यापिका अनुपम सचान ने तिरंगा फहराया। विद्यालय स्टाफ ने लाल बहादुर शास्त्री व महात्मा गांधी की तस्वीरों पर माल्यार्पण किया। सहायक अध्यापिका दीप्ती कटियार ने कहा कि देश की तरक्की के लिए हमें आपस में लड़ने के बजाय गरीबी, बीमारी और अज्ञानता से लड़ना होगा। शिक्षामित्र आशा पाल ने कहा कि सभी लोग मास्क लगायें व कोरोना गाइडलाइन का पालन करें। इसके बाद विद्यालय में पौधा रोपण व ड्रेस वितरण का कार्य किया गया।

AMAN YATRA
Author: AMAN YATRA

SABSE PAHLE

Related Articles

Back to top button