Clickadu
उत्तरप्रदेशकानपुर देहातफ्रेश न्यूज

आँगनवाड़ी कार्यकत्रियों व प्राइमरी के नोडल शिक्षको की ईसीसीई कार्यशाला संपन्न

जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान के प्राचार्य अरूण कुमार शुक्ला ने कहा कि आँगनवाड़ी केन्द्र में बच्चों के शारीरिक पोषण के साथ बौद्धिक पोषण हेतु राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के अनुसार निपुण भारत मिशन प्रारंभ किया गया है।

पुखरायां,अमन यात्रा  :  निपुण भारत मिशन के अंतर्गत आँगनवाड़ी केंद्र में प्री-प्राइमरी की गतिविधियों के संचालन हेतु स्थानीय जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान के सभागार में शुक्रवार को अमरौधा ब्लॉक की आँगनवाड़ी कार्यकत्रियों व प्राइमरी के नोडल शिक्षको की ईसीसीई (अरली चाइल्ड हुड केयर एंड एजूकेशन) कार्यशाला संपन्न हुई।

 ये भी पढ़े-  बधाई : जिलाधिकारी जेपी सिंह ने जनपद में सफलता पूर्वक पूरे किये एक वर्ष  

जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान के प्राचार्य अरूण कुमार शुक्ला ने कहा कि आँगनवाड़ी केन्द्र में बच्चों के शारीरिक पोषण के साथ बौद्धिक पोषण हेतु राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के अनुसार निपुण भारत मिशन प्रारंभ किया गया है।आँगनबाड़ी के बच्चे भी अपने घर की भाषा में खेल व गतिविधियों से तैयार होकर कक्षा एक में प्रवेश मजबूत नींव के साथ लें।बच्चे बुनियादी स्तर पर रूचिपूर्ण ढंग से पठन पाठन से जुड़े तभी आगे की कक्षाओं में उनका शिक्षण से जुड़ाव मजबूत होगा।

बीईईओ दिनेश कुमार त्रिपाठी ने कहा कि प्राइमरी  के नोडल शिक्षक व आँगनबाड़ी केंद्र समन्वय से निपुण भारत अभियान में प्रभावी क्रियान्वयन हो सकेगा।इस अभियान में समुदाय व अभिभावकों को सक्रिय रुप से जोड़कर इसे सफल बनाना है।

ये भी पढ़े-  प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत कृषक 6058 को 4,07,94,955.00 रूपये का मिला लाभ, डीएम ने उप निदेशक कृषि को दी बधाई 

ए.आर.पी रवि द्विवेदी ने कहा कि निपुण भारत मिशन में 3 से 8 वर्ष के बच्चों को बुनियादी साक्षरता व अंकगणित में दक्ष करना है।आँगनवाड़ी मेंबच्चों की नियमित उपस्थित सुनिश्चित करने के लिए गतिविधि, टी.एल.एम आदि के माध्यम से बच्चों आनंद भरा सीखने सिखाने का वातावरण तैयार किया जाए।

 ये भी पढ़े-  जिलाधिकारी जेपी सिंह ने शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता के कार्यों की अद्यतन प्रगति की समीक्षा, दिये निर्देश

ए आर पी मनोज शुक्ला ने कहा कि आँगनवाड़ी केंद्र में देश की बुनियादी तैयार होती है 100डे रीडिंग कंपेन में कहानियों के माध्यम से बाल वाटिका के बच्चों के भाषायी कौशलों पर कार्य किया जा सकता है। कार्यशाला में डायट मेंटर अंशू सिंह, ए.आर.पी प्रवीण, मनोज, रवि, दिनेश, अखिलेश यादव, नोडल शिक्षक संकुल मेहनाज अख्तर,कल्पना आदि रहे।

AMAN YATRA
Author: AMAN YATRA

SABSE PAHLE

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button