Clickadu
कानपुर देहात

आखिर आजादी के 75 साल बाद भी विपक्ष सुधरना क्यों नहीं चाहता : विद्यासागर

हिन्दुस्तान देश के सभी प्रबुद्ध नागरिक गणों के लिए वर्तमान समय राष्ट्रीय परिपेक्ष में बेहद संवेदनशीलता से विचार करने तथा निर्णय करने का हैै,स्वतंत्र भारत के विगत 74 वर्षों के इतिहास में भारत के उत्थान और पतन पर गम्भीर विचार करने का है.

अकबरपुर,सुशील त्रिवेदी। हिन्दुस्तान देश के सभी प्रबुद्ध नागरिक गणों के लिए वर्तमान समय राष्ट्रीय परिपेक्ष में बेहद संवेदनशीलता से विचार करने तथा निर्णय करने का हैै,स्वतंत्र भारत के विगत 74 वर्षों के इतिहास में भारत के उत्थान और पतन पर गम्भीर विचार करने का है,समय समय पर भारतीय राजनीति में आये परिवर्तनों पर चिंतन करने का हैै ! स्वतंत्रता के बाद 74 वर्षों में से अधिकतम समय तक कांग्रेस पार्टी देश की सत्ता सिंहासन पर आरूढ रही हैै , कांग्रेस की नीतियों तथा क्रियाकलापों से क्षुब्ध व आजिज होकर कितनी नई विचारधाराओं के आधार पर नई राजनीतिक पार्टियों का श्रजन देश में हुआ, तथा समयानुसार क्षणिक समय के लिए वो पार्टियां सत्तारूढ भी हुयी, लेकिन आपसी अन्तर कलह और कांग्रेस पार्टी की  सुनियोजित साजिसों के चलते वो पार्टियां अपनी विचारधारा से बहक कर ढह गयीं, तथा कांग्रेस पार्टी अपने मकसद में बार बार कामयाब होकर सत्तारूढ होती रही।

 ये भी पढ़े- विशालकाय अजगर निकलने से ग्रामीणों में हड़कंप

स्वतंत्रता के बाद भारत में कम्युनिष्ट पार्टियों के कामरेड़ों ने कांग्रेस पार्टी पर दबाव बनाकर जिस तरह कपडा मिलों जूट मिलों ऊलेन मिलों तथा कल कारखानों में यूनियनों का खेल खेला तथा उन्हें तहस नहस किया वो किसी से छिपा नहीं हैं ! तब कांग्रेस पार्टी सत्ता सिंहासन में बैठकर मूकदर्शक होकर सारा खेल देखती रही, देश के सैकड़ो मिल तथा कल कारखाने बंद होते चले गये तथा उनमें काम करने वाले हजारों हजार कर्मचारी बेरोजगार होते गये जिनके तमाम परिवार आज भी तंगहाली का जीवन उन्हीं मिलों के परिसर पर य आस पास की झुग्गी झोपडियों तथा पुरानी रेल लाइनों के किनारे रहकर जीवन काट रहे हैं।

ये भी पढ़े-  लापरवाही : तेज बारिश के चलते आधा गांव जलमग्न,लोगो का निकलना दूभर, जल निकासी अवरुद्ध  

स्वतंत्र भारत के इतिहास और कांग्रेस शासनकाल में पाकिस्तान के साथ युद्ध में भारतीय सैनिकों की कुर्बानी और शौर्य से बनाये गये पाकिस्तानी युद्ध बंदियों की वापसी तथा विजित भूमि का पाकिस्तान को लौटाना हर भारतीय को याद है, चाइना के द्वारा कब्जे में की गयी भारतीय भूमि को यह कहकर सौंप देना कि वहां घास भी नहीं उगती कांग्रेस का यह कारनामा भी हर भारतीय ने पढा व बुजुर्गों ने देखा हैै, जम्मू & कश्मीर में कश्मीरी पंडितों पर अत्याचार तथा निष्कासन आज भी उनके हृदयों में दुस्वप्न की तरह विराजमान है, कांग्रेस शासनकाल में देश के उत्तर पूर्व प्रदेशों से अवैध घुसे बंगलादेशी व रोहिंग्या मुस्लिम घुसपैठियों ने सीमावर्ती प्रदेशों के साथ साथ पूरे देश में जगह जगह झुग्गी झोपडी डालकर तथा कहीं कहीं पक्के मकान बनाकर देश के संसाधनों पर कब्जा कर लिया हैै लेकिन कांग्रेस पार्टी सदैव इस समस्या पर चुप्पी साधे रही ? N.R.C. ( भारतीय नागरिकता रजिस्टर) कभी बनाया नहीं ? C.A.A (नागरिकता संशोधन कानून) कभी बनाया नहीं ? वर्षों से पडोसी मुल्कों से आये सताये गये हिन्दू सिक्ख बौध सरणार्थी बनकर देश की सीमाओं पर पडे पडे नागरिकता की बाट जोहते रहे हैं लेकिन सत्ता सिंहासन पर बैठी कांग्रेस पार्टी ने तुष्टीकरण नीति के कारण उन पर कभी दया नहीं आयी ? कृषि प्रधान देश में कृषि क्षेत्र के लिए कोई सुधार कानून कभी बनाया नहीं ? देश का किसान घाटे की खेती करना छोडकर देश के सुदूर क्षेत्रों में जाकर मजदूरी करने पर मजबूर हो गया ? लाखों किसानों ने जीविका के अभाव तथा कर्ज के दबाव में आत्महत्याएं कर लीं !

ये भी पढ़े-  जिलाधिकारी ने विटामिन ए की खुराक बच्चे को पिला, vit&A सम्पूर्ण अभियान का किया शुभारंभ

शिक्षा क्षेत्र में कांग्रेस पार्टी ने कोई सुधार नहीं किया, बामपंथियों व मैकाले पद्धति की शिक्षा ने भारतीय संस्कृति और संस्कारों को तहस नहस कर दिया, लेकिन कांग्रेस पार्टी ने कभी भी हिन्दू संस्कृति और संस्कारों के प्रति ध्यान नहीं दिया ? स्वास्थ्य के क्षेत्र में कांग्रेस पार्टी ने कोई बडे सुधार नहीं किये ? कोरोना आपदा काल के प्रारम्भिक समय में फेस मॉस्क सेनेटाइनर पी.पी किट बैड वैंटीलेटर का भयावह अभाव देश ने देखा , सीमित संसाधनों के कारण भारतीय जनता को बडी कठिनाइयों का सामना करना पडा तथा कई अपनों को असमय खोना पडा , लेकिन कांग्रेस पार्टी आपदा में भी अवसर की तलाश करते हुये सत्ता सिंहासन तक पहुंचने का रास्ता खोजती रही, भारतीय सेना रक्षा उपकरणों युद्धक विमानों बुलेटप्रूफ जैकिट की बाट बर्षों से जोहती रही लेकिन कांग्रेस पार्टी ने कभी सेना की माँग पर ध्यान नहीं दिया , सिर्फ सत्ता सिंहासन का आनन्द लेती रही तथा बडे बडे रक्षा घोटाले, खेल घोटाले, आवास घोटाले, कोयला घोटाले, जैसे तमाम घोटाले करके अपनी जेबें भरती रही, जनता जनार्दन से जुडी समस्याओं पर कभी गम्भीर चिंतन नहीं किया जिससे गरीब और गरीब होता गया, भारत विश्व पटल पर अन्य देशों की अपेक्षा दीन हींन की स्थिति में देखा जाने लगा।

ये भी पढ़े-  तेज बारिश के चलते कच्चा मकान ढहा,मलबे में दबी महिला, हालत चिंताजनक

स्वतंत्र भारत में कांग्रेस की नीतियों से आजिज सरदार बल्लभ भाई पटेल और डा.राममनोहर लोहिया जी के समाजवाद के सिद्धांत पर जनता पार्टी, लोकदल, जनतादल, तथा बाद में समाजवादी पार्टी, जनतादल आदि राजनीतिक पार्टियां बनीं, वर्तमान भारत में भाजपा का सांस्कृतिक राष्ट्रवाद तथा मोदी जी की कार्य कुशलता विदेशी दुश्मन राष्ट्रों को राश नहीं आ रही तथा देश में लम्बे समय तक सत्ता की चासनी चाट चुके नेताओं को भी सत्ता से दूरी चैन नहीं लेने दे रही, इसीलिए नित नये षडयंत्र कारी प्रयोग भारत की धरती पर विदेशी ताकतों की साजिस के साथ किये जा रहे हैं, कभी C.A.A के नाम पर शाहीन बाग, कभी राफेल के नाम पर संसद न चलने देना, कभी N.R.C के नाम पर देश भर में बवाल करना, कभी धारा 370 व 35ए के नाम पर बवाल करना, और वर्तमान में नये बने कृषि सुधार कानूनों के नाम पर संसद और सडक पर हंगामा करके देश को गुमराह करना, पैगासिस स्पाईवेयर के माध्यम से फोन टैंपिग आधार विहीन मुद्दे पर हंगामा करना, प्रदेश सरकारों से प्राप्त आंकडों के आधार पर दिये गये स्वस्थ्यमंत्री के जबाब पर आक्सीजन गैस की कमी पर हुयी मौतों के नाम हंगामा करना संसद का कीमती समय जाया करना तथा जनता के पैसे का दुरुपयोग करना , इस तरह के तमाम मन गंढ़त मामलों को लेकर भारत का सत्ता लोलुप संयुक्त विपक्ष संसद से लेकर सड़क तक जनता में भ्रम व अफवाहें फैलाकर अपनी राजनीतिक रोंटियां सेंकने की फिराक में हैं,ऐसी स्थिति में देश के आम जनमानस को भारत के वर्तमान संयुक्त विपक्ष के पिछले क्रिया कलापों को स्मरण रखना चाहिये, तथा इनकी विचारधारा का गहन अध्यन करके ही अपना मन मस्तिष्क किसी निष्चय पर ले जाना चाहिये, राष्ट्रहित में हमारा थोडा समसामायिक नुकसान होते हुये भी राष्ट्रीय अहित न होने पावे इस विचारधारा पर विशेष ध्यान केन्द्रित करना होगा, राष्ट्र हैं तो हम हैं।

AMAN YATRA
Author: AMAN YATRA

SABSE PAHLE

Related Articles

Back to top button