Clickadu
उत्तरप्रदेशकानपुरफ्रेश न्यूज

मानवता असत्य को नहीं स्वीकार सकतीः प्रो. जगदीश उपासने

त्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग द्वारा गणेश शंकर विद्यार्थी के स्मारक साप्ताहिक व्याख्यानमाला के अंतर्गत आज ‘वर्तमान परिदृश्य और मीडिया लिटरेसी’ विषय पर कार्यक्रम आयोजित किया गया।

कानपुर,अमन यात्रा।  छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग द्वारा गणेश शंकर विद्यार्थी के स्मारक साप्ताहिक व्याख्यानमाला के अंतर्गत आज ‘वर्तमान परिदृश्य और मीडिया लिटरेसी’ विषय पर कार्यक्रम आयोजित किया गया। हाईब्रिड (ऑनलाइन/ऑफलाइन) माध्यम से आयोजित इस व्याख्यान में कार्यक्रम के मुख्य वक्ता प्रो. जगदीश उपासने, अध्यक्ष, प्रसार भारती भर्ती बोर्ड ने कहा कि पत्रकार की ये जिम्मेदारी होती है कि वे लोगों तक सही जानकारी पहुंचायें। पत्रकारिता का क्षेत्र सिर्फ धन कमाने के लिए नही चुनें, बल्कि सामज सेवा करने की भावाना से चुनें। उन्होंने डिजिटल मीडिया का एक सफल पहलू सामने रखते हुए कहा कि आज के समय में हम समाचार को सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों तक पहुंचा सकते है और इसके फीडबैक भी तुरंत आने शुरु हो जाते है। यदि वो खबर गलत होती है तो कुछ ही समय में उस खबर का सत्य सामने आ जाता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि मानवता असत्य को स्वीकार नही करती है। विचारों और समाचारों को सामने आने से कोई नही रोक सकता।

पत्रकारिता विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. योगेन्द्र पाण्डेय ने कहा कि पत्रकार का ये धर्म होता है कि वे बिना पक्षपात किये खबरों के दोनों पहलूओं से जनता को अवगत कराये और सत्य को सामने लाये। खबर देने के लिए उन शब्दों का चयन किया जाना चाहिये जो समाज का हर व्यक्ति आसानी से समझ सके। स्टूडियों प्रभारी डॉ. ओम शंकर गुप्ता ने कहा कि मीडिया का योगदान समाज में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष दोनों ही रूप में है और मीडियाकर्मी अपने उत्तरदायित्वों को निभाते हुए समाज पर कैसा प्रभाव छोड़ रहे हैं, ये जानना बेहद जरुरी है, क्योंकि आज मीडिया का लोगों पर सकारात्मक प्रभाव होने के साथ-साथ नकारात्मक प्रभाव भी अधिक पड़ रहा है।

कार्यक्रम में धन्यवाद ज्ञापन प्रेम किशोर शुक्ला द्वारा किया गया। इस दौरान डॉ. जितेंद्र डबराल, मीडिया प्रभारी डॉ. विशाल शर्मा, डॉ. रश्मि गौतम, डॉ. दिवाकर अवस्थी, सागर कनौजिया तथा विभाग के छात्र-छात्राओं की उपस्थित उल्लेखनीय रही।

AMAN YATRA
Author: AMAN YATRA

SABSE PAHLE

Related Articles

Back to top button