Clickadu
चित्रकूटउत्तरप्रदेशफ्रेश न्यूज

दूल्हे ने निकाला ऐसा नायाब तरीका, दुल्हन भी बोली जियो मेरे शेर, पढ़े दास्तान    

अजब- गजब तरीके से दूल्हे ने सड़क पर ई-रिक्शा पर बरात निकली तो देखने वालों की भीड़ और सेल्फी लेने वालों में भी होड़ लग गई। बरात में करीब 16 ई-रिक्शा शामिल रहे, जिसमें बराती सवार होकर दुल्हन के घर बरवारा पहुंचे।

चित्रकूट,अमन यात्रा  अजब- गजब तरीके से दूल्हे ने सड़क पर ई-रिक्शा पर बरात निकली तो देखने वालों की भीड़ और सेल्फी लेने वालों में भी होड़ लग गई। बरात में करीब 16 ई-रिक्शा शामिल रहे, जिसमें बराती सवार होकर दुल्हन के घर बरवारा पहुंचे। दूल्हे ने सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किए। इस अजीबो-गरीब बरात के खूब चर्चे हो रहे हैं।

 

मालूम हो कि पहाड़ी विकास खंड के देहरूछ माफी निवासी अशोक सिंह के पुत्र महेंद्र मोहन सिंह आम आदमी पार्टी के मेंबर हैं। उन्होंने अपनी शादी में महंगाई के विरोध का अनोखा तरीका निकाला। पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम के विरोध में उन्होंने ई-रिक्शा पर बरात ले जाने का फैसला किया और इसमें दोस्तों ने उनका साथ दिया। वह 16  ई-रिक्शा पर बरातियों को बिठाकर घर से करीब 24 किमी दूर दुल्हन के घर तक बरात ले गए। इस बीच जिस रास्ते से वह गुजरे चर्चा का विषय बन गए। इस अनोखी बरात को देखकर लोग बरबस उनतक खिंचे आ गए, कुछ ने उनके साथ सेल्फी भी ली। दुल्हन को भी अपने पति पर गर्व हुआ और बोली जियों मेरे शेर आपने वो कर दिखाया जो समाज में एक अलग स्थान और एक समाजिक सन्देश जाता है.

दुल्हन के दरवाजे पर अनोखी बरात देखकर कोई हंसने लगा तो कोई महंगाई के इस अनोखे विरोध की प्रशंसा करने लगा। कुछ लोगों ने कहा कि पर्यावरण को देखते हुए ई-रिक्शा बेहतर साधन है, इससे न तो प्रदूषण होगा और महंगाई के इस दौर में पेट्रोल डीजल पर बेवजह खर्च भी नहीं होगा। रात में शादी की रस्म अदायगी के बाद महेंद्र ई-रिक्शा पर ही दुल्हन को विदा कराकर वापस गांव पहुंचे।

दूल्हा बने आप के कार्यकर्ता महेंद्र ने बताया कि जब ई-रिक्शा से बरात ले जाने का निर्णय लिया तो परिवार, रिश्तेदार व ससुराल पक्ष में विरोध हुआ और काफी दबाव आया। लोग क्या कहेंगे लेकिन वह अपनी बात पर अड़े रहे। वह अपनी बरात के माध्यम से लोगों को संदेश देना चाहते हैं कि यह महंगाई का विरोध भी है और दिल्ली की केजरीवाल सरकार के पर्यावरण बचाओ अभियान में एक छोटा सा योगदान भी है।

AMAN YATRA
Author: AMAN YATRA

SABSE PAHLE

Related Articles

Back to top button