Clickadu
कानपुर देहातउत्तरप्रदेशफ्रेश न्यूज

अलर्ट !  बेसिक शिक्षा अधिकारियों को नियमित रूप से करना होगा विद्यालयों का अनुश्रवण एवं निरीक्षण

परिषदीय स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के लिए विभाग जी जान से लगा हुआ है लेकिन शिक्षक अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहे हैं। परिषदीय विद्यालयों के विशेष निरीक्षण अभियान में 98 शिक्षक गैरहाजिर मिले हैं जिनको निलंबित कर दिया गया है। सितंबर के पहले पखवाड़े की रिपोर्ट के आधार पर ड्यूटी के प्रति लापरवाह कुल 2968 शिक्षकों पर कार्यवाही हुई है।

Story Highlights
  • निरीक्षण में गैरहाजिर 98 शिक्षक निलंबित, 2323 का वेतन रोका, 547 से मांगा गया स्पष्टीकरण, विशेष निरीक्षण अभियान की रिपोर्ट के अंतर्गत हुई कार्यवाही 

कानपुर देहात,अमन यात्रा : परिषदीय स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के लिए विभाग जी जान से लगा हुआ है लेकिन शिक्षक अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहे हैं। परिषदीय विद्यालयों के विशेष निरीक्षण अभियान में 98 शिक्षक गैरहाजिर मिले हैं जिनको निलंबित कर दिया गया है। सितंबर के पहले पखवाड़े की रिपोर्ट के आधार पर ड्यूटी के प्रति लापरवाह कुल 2968 शिक्षकों पर कार्यवाही हुई है। इनमें 2323 का वेतन रोका गया और 547 से स्पष्टीकरण मांगा गया।महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरन आनंद ने विशेष निरीक्षण अभियान पुन: बढ़ाते हुए 19 से 30 सितंबर तक जारी रखने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने अधिकारियों को अभियान में किसी तरह की लापरवाही न बरतने की हिदायत दी है। विशेष अभियान के तहत सभी मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक (बेसिक) व बीएसए को निर्देश हैं कि वे जिले के दूरस्थ 4 ब्लॉकों का चयन करें और खंड शिक्षा अधिकारियों व जिला समन्वयकों को रोजाना सुबह 6 बजे से जिला मुख्यालय बुलाकर चिह्नित विद्यालयों में निरीक्षण के लिए भेजें। निरीक्षण रिपोर्ट के आधार पर लापरवाह शिक्षकों के खिलाफ कार्यवाही करें।

निरीक्षण रिपोर्ट न भेजने वाले 12 जिलों के अधिकारियों पर हो सकती है कार्यवाही

पहले पखवाड़े की निरीक्षण रिपोर्ट न भेजने वाले 12 जिलों के अधिकारियों पर भी कार्यवाही हो सकती है। अपने पत्र में महानिदेशक ने लिखा है कि कतिपय जनपदों में बीएसए ने आदेशों की अवहेलना करते हुए निरीक्षण संबंधी सूचना प्रेषित नहीं की गई है। यह कृत्य घोर लापरवाही, निर्देशों की अवहेलना एवं अनुशासनहीनता का द्योतक है। ऐसे अधिकारियों पर कठोर कार्यवाही की जाएगी। मथुरा, अलीगढ़, प्रयागराज, बलिया, पीलीभीत, संतकबीरनगर, अंबेडकरनगर, देवरिया, महाराजगंज, जालौन, फर्रुखाबाद और हापुड़ ने निरीक्षण रिपोर्ट नहीं भेजी है। महानिदेशक ने इसे घोर लापरवाही व अनुशासनहीनता मानते हुए संबंधित अधिकारियों को कड़ी कार्यवाही की चेतावनी दी है। उन्होंने सभी जिलों को अगले निरीक्षण अभियान का ब्योरा अनिवार्य रूप से भेजने के निर्देश दिए हैं।

AMAN YATRA
Author: AMAN YATRA

SABSE PAHLE

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button